JABALPUR ICON:शहर की आत्मा शहर के लोग होते है- चौसर फिरंगी टीम

मध्य प्रदेश की अपनी कोई फिल्म इंडस्ट्री नहीं है। ऐसे में ये एक चैलेंज था लोगो को समझना की टैलेंट सिर्फ मुंबई में पैदा नहीं होता, ये कहना था जबलपुर का नाम देश में रौशन करने वाली फिल्म चौसर फिरंगी के निर्देशक संदीप पांडे का। फिल्म की सक्सेस पर फिल्म की टीम ने orsunao.com के साथ खास बातचीत की। आप भी पढ़िए खास बातचीत।

फिल्म को कैसा रेस्पॉन्स मिल रहा है??

रेस्पॉन्स बहुत अच्छा मिल रहा है। जो भी लोग फिल्म देखकर आते है हमसे कहते है की फिल्म कुछ हटकर है। अलग चीज़े हमेशा लोगो को आकर्षित करती है। ऐसे में जब लोगो को मज़ा आता है ये देखकर लगता है की मेहनत सफल हुई।

फिल्म को बनने में कितना समय लगा??

फिल्म को पूरी तरह से बनने में लगभग तीन साल लगे। इस समय हमारी पूरी टीम ने अपना पूरा डेडिकेशन दिया।

फिल्म को इस लेवल तक लाने में किसी चैलेंज से सामना हुआ?

बिलकुल ,हर पड़ाव पर चैलेंज था।बल्कि आज भी चैलेंज ही फेस करते है। लोगो को यही लगता है की टैलेंट सिर्फ मुंबई में पैदा होता है ऐसे में उन्हें ये यकीन दिलाना की यहाँ भी टैलेंट है ये काफी डिफिकल्ट था।

शहर में कहाँ कहाँ शूटिंग हुई है?

लगभग पुरे शहर में इस फिल्म की शूटिंग हुई है,डुमना रोड, कछपुरा ब्रिज, विजय नगर, जीरो डिग्री, काछीयाना, नरघईया, सिविक सेंटर, दमोह नाका, मदन महल, मदार टेकरी, अधारताल, मदन महल, सिविल लाइन, रानीताल, लेबर चौक। जबलपुर को सिर्फ ग्वारीघाट,भेड़ाघाट, या बरगी तक सीमित नहीं किया जा सकता। उसके अलावा भी शहर है। शहर की आत्मा शहर के लोग होते है।

आगे का क्या प्लान है??

इस फिल्म से हमारा हौसला बढा है। ।लोगो ने हमे समझा है, हमारी हिम्मत बढ़ी है। इस ही हिम्मत को आगे लेकर जायेंगे और फिल्म मेकिंग से जुड़े रहेंगे। हमारी यही मंशा है की जिस तरह हर जगह का अपना कल्चर होता है वो वह के आर्ट द्वारा प्रेजेंट होता है, उसी तरह हम भी मप्र की संस्कृति को प्रदर्शित करे।

कहानी कहाँ से आती हैं??

कहानियां को हर समय दिमाग में चलती है। ये एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। कहानी जीवन के हर हिस्से में है।

जबलपुर किस तरह अलग है??

हर शहर अपने आप में अलग होता है। जबलपुर का भी अपना एक फ्लेवर हैा। जब आपका शहर आपसे ये कहने लगे कि अच्छा कलाकार है तो लगता है कि इससे अच्छा क्या हो सकता है।

पूरी टीम में कौन कौन शामिल है?

निर्देशक- संदीप पांडे, एक्सक्यूटिव प्रोड्यूसर- तुषार सरकार, रेखा मिश्रा ( लीड एक्टर ) , अंशुल ठाकुर ( क़िरदार मोनू ), प्रतीक ( किरदार टीटू ) , सारिका नायक ( किरदार पीए) , रोहित सिंह ( क़िरदार बल्ला) , टीम में श्रेया, रुद्राक्ष, गौरव , हिरेश, नमन मिश्रा, तरुण ठाकुर, सोहिल, मोहित।

युथ को कोई सन्देश देना चाहते है???

बस यही कहना चाहते है कि, जो भी करो समझदारी से करो। कुछ भी करने से पहले खुद से सवाल करे। मेहनत से डरे नहीं।

182 total views, 1 views today

You May Also Like