जाने कितना होना चाहिए हीमोग्‍लोब‍िन

हीमोग्‍लोबिन लाल रक्‍त कोशिकाओं में पाएं जाने वाला एक प्रोटीन होता है जिसमें आयरन का एक अणु मौजूद होता है अगर भोजन में लगातार लौह तत्‍व यानी आयरन की कमी होती है तो हीमोग्‍लोबिन के कमी के चलते एन‍िमिया जैसी बीमारी हो जाती है लेकिन किन शायद आप नहीं जानते कि इसकी हीमोग्‍लोबिन में आयरन की अधिकता भी आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है। इसकी कमी और अधिकता दोनों ही शरीर के ल‍िए घातक साबित हो सकती है। हीमोग्‍लोबिन में आयरन की अधिकता की समस्‍या को हीमोक्रोमेटोसिस कहा जाता है। आइए जानते है इसके बारे में शरीर में अधिक हीमोग्‍लोबिन की वजह से क्‍या समस्‍याएं हो सकती है और शरीर में कितना हीमोग्‍लोबिन होना चाहिए?

कितना होना चाहिए हीमोग्‍लोब‍िन

हीमोग्‍लोब‍िन की मात्रा को रक्‍त के 100 म‍िलीलीटर के आधार पर मापा जाता है, जबकि मेडिकल टर्म में इसे डेसीलीटर कहा जाता है। एक वयस्‍क महिला में 12 से 16 ग्राम हीमोग्‍लोबिन होना जरुरी होता है। एक वयस्‍क पुरुष में 14 से 18 ग्राम हीमोग्‍लोबिन और किशोर में 12.4 से 14.9 ग्राम हीमोग्‍लोबिन और किशोरी में 11.7 से 13.8 हीमोग्‍लोबिन होना अति आवश्‍यक होता है।

10,887 total views, 1 views today

You May Also Like