जख्मो को  भी  हँसना पड़ता  है 

लेखक – पी राय राठी, भीलवाड़ा।

   वक्त  छोड़ दे साथ तो,

            लम्हों को  मरना  पड़ता  है |

            तल्ख  धूप ‘रात अंधेरे

            सब कुछ  सहना  पड़ता  है |

 

    समय ”  हर घाव 

    भर  ही देता  है दोस्तों

    वक्त  के जाने  

    फिर दोबारा  लाने  में 

    अलख  सा ‘ जगाना  पड़ता  है |

    धरा  से  नभ  नापने  में  

    ज़ोर लगाना  पड़ता   है |

 

            रास्ते दुनिया के 

            रूके  न’ रूकते कभी 

            सजती है  महफिलें

            खत्म न होते 

            ये  कारवे कभी |

 

    महफिल कारवॉ

    बनाने  में 

    दुश्मनी  को गले  

    लगाना  पड़ता  है ।

    ज़ोड़ कर हाथ 

    हजारों  हाथों  का 

    साथ  निभाना  पड़ता  है |

 

            कुछ फूलों के टूटने  से 

            न चमन 

            कभी उजड़ा 

            न उजड़ता  है  

            एक  आदमकद  

            हस्ती  होने  में 

            इंसा को फिर से ,

            बच्चा  होना पड़ता  है ।

            काटों की चुभन में  

            फूलों  को

            चुनना पड़ता  है   ।

 

    जख्मो को हँसना  पड़ता  है ‘ 

    कशीदों  मे  खुद  को 

    को गढ़ना पड़ता  है |

 

           कुछ  को ख्वाइशों में 

           कुछ को  सजा बन  कर

           जीना ‘ मरना  पड़ता  है |

           जो बीत  जाते  मर कर ‘

           उन्हें भूलना  ही  पड़ता  है |

           नई  य़ादो  को

           जीना  पड़ता  है ।

           फ़टे  ख्वाबों  को

           सीना  पड़ता  है |

 

    वक्त छोड़ दे साथ हाथ  तो

    हर लम्हों  को,

    हर  हाल  में  मरना पड़ता  है |

    तल्ख धूप  ,

    ‘रात अंधेरे,

    सब कुछ  सहना  पड़ता  है |

    किसी कों  

    मदारी  के  किरदार में  ,

    तो  किसी को

    राजा होकर  भी ,मरना  पड़ता  है |

 

 

 

1,605 total views, 2 views today

You May Also Like