सिर्फ तालियां बटोरना मकसद ना बनाये : नवाजुद्दीन सिद्दिकी

Monday Motivation में नवाजुद्दीन सिद्धकी से जानिए सफलता टिप्स।

कामयाबी हो या नाकामी दोनों के पीछे कई पड़ाव छिपे होते हैं जो आपको बहुत कुछ सिखाकर जाते हैं। दिल्ली आने के बाद अपने थियेटर को जारी रखने के लिए मैंने वॉचमैन की नौकरी की। यह काम करते हुए मुझे लगता था कि यह जिंदगी का एक फेज है जो गुजर जाएगा। गुजर भी गया और कामयाबी भी हाथ आई। लेकिन मैं यह भी जानता था कि सफलता भी स्थाई नहीं होती और कई सबक अपने साथ लेकर आती है। जब मुझे केन्स जाना था तो किसी भी फैशन डिजाइनर को इस बात पर यकीन नहीं हुआ और उन्होंने मेरे लिए डिजाइन करने से भी मना कर दिया था। जब ऐसा सच में हुआ तो सभी आश्चर्यचकित थे। इस सफर में ऐसे ही अनुभवों से आप रूबरू होंगे।

सिर्फ तालियां बटोरने का मकसद मत रखिए

जिंदगी में सफल होने के लिए जरूरी है कि आप अपने उद्देश्यों की गंभीरता को समझें। कई बार लोगों को हंसाने और अपनी तरफ आकर्षित करने या तालियां बटोरने के लिए भावना में बहकर जरूरत से ज्यादा कामों को हम खुद पर ओढ़ लेते हैं जो काम की गंभीरता को खत्म कर देता है। इसलिए उतना ही करें जितनी आपकी क्षमता है। यह भी याद रखें कि किसी भी काम में अच्छा प्रदर्शन आसान है, लेकिन उसी काम को जब आप थोड़ा अलग तरीके से करना चाहते हैं तो यह बेहद मुश्किल हो जाता है। कई सालों से बने ढर्रे से अलग हटकर कोई काम करना जोखिम भरा होता है लेकिन जोखिम उठाना ही अक्सर नए रास्तों को खोल देता है।

केवल टैलेंट के भरोसे मत रहिए

अब सिर्फ टैलेंट पर निर्भर नहीं हुआ जा सकता बल्कि बेहतर प्रदर्शन के लिए आपको लगातार प्रैक्टिस करनी होगी। हर पेशे की अपनी चुनौतियां हैं। आगे बढ़ने के लिए मन में सपनों का पलना जरूरी है और कड़ी मेहनत आपके सपनों को हकीकत में बदल देगी

82 total views, 2 views today

You May Also Like