जबलपुर : रादुविवि में मनाई गयी स्वामी विवेकानन्द के शिकागो संबोधन की जयंती

शिकागो सम्मेलन में स्वामी जी द्वारा प्रस्तुत उद्बोधन वैश्विक स्तर पर एक नींव का पत्थर है, यह विचार मुख्य अतिथि सुश्री रचना कीर्ती दीदी ने व्यक्त किये।  अवसर था रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के काउन्सिल हाल में भारतीय ज्ञान शोध  पीठ एवं राजनीति विज्ञान विभाग के संयुक्त तत्वावधान में विश्वधर्म महासभा,शिकागो के स्वामी विवेकानन्द सम्बोधन के 125वी जयन्ती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम का। कार्यक्रम संयोजक प्रो. राम शंकर ने बताया कि युवाओं में विवेकानन्द सी चेतना होनी चाहिये।विषय प्रवर्तन डा. हरीश चन्द्र यादव ने किया और कहा कि अमेरिका में आयोजित विश्वधर्म महासभा में कालजयी उद्बोधन स्वामी विवेकानन्द द्वारा दिया गया जिसमें सांस्कृतिक राष्ट्रीयता, विश्वबन्धुत्व प्रमुख था।

स्वामी विवेकानन्द के व्यक्तित्व का करे अनुसरण 

विशिष्ट आतिथि रादुविवि कार्यपरिषद् सदस्य  निखिल अरुण देशकर ने स्वामी विवेकानन्द के कृतित्व एवं व्यक्तित्व का अनुसरण करने के लिए कहा। कार्यक्रम का संचालन डा. प्रवेश पाण्डेय तथा आभार प्रदर्शन संयोजक प्रो. रामशंकर ने किया। इस अवसर पर प्रो. राजीव दुबे, फादर बैन्ट, डा. पूर्णिमा शर्मा, डा. तरूणा राठौर, डाॅ. आशीष यादव, डा. देवेन्द्र जाटव, डा. राजाराम सिंह, डा. अभय सिंह, डा. छवि कुमार, डा.तृप्ति मांझी, डा. अविनाश राय, डा. रज्जन द्विवेदी सहित अन्य शिक्षक शोधार्थी अन्य छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

175 total views, 1 views today

You May Also Like